Speech On Constitution Day in Hindi: संविधान दिवस पर भाषण हिंदी में

क्या आपको भी Speech On Constitution Day In Hindi की तलाश है, तो एक बार इस आर्टिकल को जरूर पढ़िए। जिसमें हम स्कूली छात्रों और बच्चों के लिए Speech On Constitution Day In Hindi (संविधान दिवस पर भाषण) लेकर आए हैं। इस आर्टिकल में हम बहुत ही सरल भाषा में लिखा गया Constitution Speech in Hindi, संविधान दिवस पर हिंदी में भाषण बता रहे हैं।

Speech On Constitution Day In Hindi (संविधान दिवस पर भाषण)

इस आर्टिकल में हम Constitution Day Speech In Hindi (संविधान दिवस पर भाषण) Best Speech on Constitution In Hindi, Short Speech on Constitution लेकर आए हैं। यह Best Short Speech on Constitution In Hindi 4, 5, 6, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों के लिए या उनके किसी प्रोजेक्ट के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकता हैं। यदि आपको अपने स्कूल में निबंध लिखने या स्पीच प्रतियोगिता के लिए  संविधान दिवस पर भाषण का टॉपिक मिला है, तो यह आर्टिकल आप ही के लिए है। चलिए शुरू करते हैं.

संविधान दिवस पर निबंध

1 Minute Speech on Constitution Day in Hindi

यहां उपस्थित सभी माननीय अतिथिगणों, प्रधानाध्यापक एवं शिक्षकों को मेरा नमस्कार। जैसा की आप सभी जानते हैं, की आज हम सभी यहां संविधान दिवस के उपलक्ष में एकत्रित हुए हैं। साथियों, एक देश के लिए उसका संविधान कितना महत्वपूर्ण है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि देश के प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट, राज्यों के विधान मंडल, अदालतें एवम सांसद सभी संविधान के नियम अनुसार कार्य करते हैं। संविधान देश के प्रत्येक नागरिक को पूरी स्वतंत्रता और समानता प्रदान करता है। संविधान में हर एक नागरिक के देश के प्रति कर्तव्य एवं उनके अधिकारों के बारे में बताया गया। देश के नागरिकों को संविधान का महत्व समझाने और इसके प्रति जागरूक करने के लिए ही हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाए जाने की घोषणा की थी। इसलिए ही इस दिन सरकारी कार्यालयों, संस्थानों और स्कूल-कॉलेजों में संविधान दिवस को मनाया जाता है। इसी के साथ अब अपनी इस स्पीच को समाप्त करना चाहूंगी, धन्यवाद। 

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join
Speech On Constitution Day In Hindi
Speech On Constitution Day In Hindi

3 Minute Speech on Constitution Day

सबसे पहले तो मैं यहां उपस्थित सभी माननीय अतिथिगणों, प्रधानाध्यापक एवं शिक्षकों का अभिवादन करता हूं। जैसा की आप सभी जानते हैं, की भारत में हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। संविधान एक देश के निर्माण, सुचारू रूप से संचालन करने और देश की उन्नति में सहायक होता है। एक भारतीय नागरिक होने के नाते हमें अपने देश के संविधान पर गर्व होना चाहिए। हमारे भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। इस संविधान को तैयार करने में हमारे देश की संविधान सभा ने काफी प्रयास और मेहनत की है। जबकि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी ने भारत के संविधान को तैयार करने में एक अहम भूमिका निभाई है। हमारे देश के संविधान को बनकर तैयार होने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा।

किसी भी राष्ट्र का सुचारू रूप से संचालन तभी किया जा सकता है, जब उस देश का संविधान लागू किया गया हो। बिना संविधान के देश नहीं चलाया जा सकता। संविधान की महत्ता को देखते हुए ही माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा वर्ष 2015 में संविधान दिवस को मनाया जाने का फैसला किया गया। संविधान देश के प्रत्येक नागरिक को उनकी जिम्मेदारियां और उनके अधिकारों से उन्हें अवगत करवाता है, ताकि हर एक नागरिक को अपने कर्तव्यों और अधिकारों का आभास हो सके। अब मैं अपनी स्पीच को यहीं विराम देना चाहूंगा, धन्यवाद।

5 Minute Speech on Constitution Day in Hindi

यहां उपस्थित सभी महानुभावों, प्रधानाध्यापक एवं शिक्षकों को मेरा नमस्कार। मैं आप सभी का आज की सभा में स्वागत करती हूं। आज हम सभी यहां संविधान दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। संविधान एक राष्ट्र के निर्माण और संचालन में मुख्य भूमिका निभाता है। इसके द्वारा ही किसी देश की व्यवस्था काम करती है। 

संविधान किसी भी देश की सत्ता का निर्माण करता है और यह स्पष्ट करता है की निर्णायक शक्ति किसके पास होगी। हमारे भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित और लचीला संविधान है। अंग्रेजों ने 200 सालों में हमारे देश की संचालन प्रणाली और सारी व्यवस्थाएं अपने अनुसार चलाई और अपने रचित संविधान द्वारा ही देश को संचालित किया। अंग्रेजों से आजादी के बाद उनके द्वारा ही बनाए गए संविधान का पालन करना गुलामी करने जैसा ही होता। इसलिए जब आज़ादी हम औपचारिक रूप से आजाद भी नहीं हुए थे उससे पहले ही हमारे भारत में 6 दिसंबर 1946 को संविधान सभा का निर्माण किया गया, जिसमें 389 सदस्य शामिल थे और संविधान सभा की पहली बैठक 9 दिसंबर को रखी गई।

यही वो दिन था जब मुस्लिम लीग ने संविधान सभा का बहिष्कार कर अलग मुल्क की मांग की और इसके फलस्वरूप ही आज पाकिस्तान अस्तित्व में है। जिसके बाद संविधान सभा की पहली बैठक में 389 में से सिर्फ 211 सदस्य ही शामिल हो सके और इस सभा का अस्थाई अध्यक्ष डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा को चुना गया। इसके बाद राजेंद्र प्रसाद जी को संविधान सभा का स्थाई अध्यक्ष चुना गया। हमारे भारत के संविधान को बनाने का कार्य आजादी के पहले ही शुरू हो गया था लेकिन इसे बनने में काफी समय लग गया और इसलिए ही भारत की आजादी के बाद भी इसका अपना कोई संविधान नहीं था। हमारे संविधान को बनने में 2 साल 11 महीने और 18 दोनों का समय लगा।

इसके बाद यहां अंततः 26 नवंबर 1949 को पूरा हुआ और इसे 26 जनवरी 1950 को सम्पूर्ण देश में लागू कर दिया गया। डॉ भीमराव अंबेडकर ने भारत के संविधान को बनाने में विशेष योगदान दिया इसलिए ही साल 2015 में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती होने के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा संविधान दिवस को मनाए जाने का फैसला लिया गया इसके बाद से हर साल 26 नवंबर के दिन संविधान दिवस को मनाया जाता है। संविधान में किसी राष्ट्र को चलाने की रणनीति, सरकार की भूमिका, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री एवं राज्यपालों की शक्तियों का वर्णन, देश के आम नागरिकों के कर्तव्य एवं मौलिक अधिकारों को वर्णित किया गया है।

इसलिए हम सभी को संविधान के बारे में पता होना चाहिए ताकि हम देश के प्रति अपने कर्तव्यों को भली-भांति रूप से निभा पाए एवं शोषण और अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाकर अपने मौलिक अधिकारों की भी मांग करें। संविधान में केवल अनुच्छेद नियम और कानून को बतलाता है, बल्कि यह एक आम नागरिक को उसकी ताकत से भी परिचित करवाता है। हम सभी 140 करोड़ भारतीयों को संविधान ने बड़े ही सुन्दर तरीके से जोड़ा हुआ है। हम सभी भारतीयों को अपने देश के संविधान पर गर्व होना चाहिए। आप सभी को एक बार फिर अंत में संविधान दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं। इसी के साथ अब मैं अपनी स्पीच को विराम देना चाहूंगी, धन्यवाद।

तो हमारे नन्हें पाठकों और मित्रों! यह था हमारा Speech On Constitution Day In Hindi (संविधान दिवस पर भाषण) आप इस भाषण को लेकर क्या सोचते हैं, और यह भाषण आपको कैसा लगा, इसके बारे में हमें कॉमेंट बॉक्स में जरूर लिख भेजिए। ऐसे ही निबंध, स्पीच और एप्लीकेशन पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट के साथ बने रहिए।

FAQs संविधान दिवस पर भाषण हिंदी में

भारत का संविधान कब लागू किया गया था?

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था।

संविधान दिवस कब मनाया जाता है?

संविधान दिवस हर साल 26 नवंबर को मनाया जाता है।

Join WhatsApp Group CLICK HERE
ESSAYDUNIYA HOME CLICK HERE

Leave a Comment